Q. 33.9( 9 Votes )

रेडियो और टेलीविजन के स्थानीय प्रसारणों में एक नियत समय पर लोकगीत प्रसारित होते हैं। इन्हें सुनो और सीखो।

Answer :

विद्यार्थी इन्हें सुनकर सीखने का प्रयास करें|


उत्तरप्रदेश का ग्रामीण लोकगीत


घर ही मा गंगा


घर ही मा जमुना


घर ही मा तीरथ हजारी जी


घर ही मा वत्सल


घर ही भक्तस्थल


फिर काहे फिरत उघारी जी


घर ही मा नर्का


घर ही मा स्वर्गा


एही मा धर्म निभालो जी


Rate this question :

How useful is this solution?
We strive to provide quality solutions. Please rate us to serve you better.
RELATED QUESTIONS :

को, में, से आदि वाक्य में संज्ञा का दूसरे शब्दों के साथ संबंध दर्शाते हैं। ‘झाँसी की रानी’ पाठ में तुमने का के बारे मे जाना। नीचे ‘मंजरी जोशी’ की पुस्तक ‘भारतीय संगीत की पंरपरा’ से भारत के एक लोकवाद्य का वर्णन दिया गया है। इसे पढ़ो और रिक्त स्थानों में उचित शब्द लिखो:

तुरही भारत के कई प्रांतों में प्रचलित है। यह दिखने ---------अंग्रेजी के एस या सी अक्षर ------------------तरह होती है। भारत ------विभिन्न प्रांतों में पीतल या काँसे --------------बना यह वाद्य अलग-अलग नामों ------------- जाना जाता है। धातु की नली --------घुमाकर एस ----------आकार इस तरह दिया जाता है कि उसका एक सिरा सँकरा रहे और दूसरा सिरा घंटीनुमा चौड़ा रहे। फूँक मारने --------------एक छोटी नली अलग -------- जोड़ी जाती है। राजस्थान ---------इसे बर्गू कहते हैं। उत्तर प्रदेश -------------- यह तूरी, मध्य प्रदेश और गुजरात -----------रणसिंघा और हिमाचल प्रदेश -------नरसिंघा -------------- नाम से जानी जाती है। राजस्थान और गुजरात में इसे काकड़सिंघी भी कहते हैं।


NCERT Hindi -वसंत भाग 1