Q. 24.7( 9 Votes )

प्रेमचंद की भाषा बहुत पैनी और मुहावरेदार है। इसीलिए इनकी कहानियाँ रोचक और प्रभावपूर्ण होती है। इस कहानी में आप देखेंगे कि हर अनुच्छेद में दो-तीन मुहावरों का प्रयोग किया गया है। उदाहरणतः इन वाक्यों को देखिए और ध्यान से पढि़ए-

मेरा जी पढ़ने में बिलकुल न लगता था। एक घंटा भी किताब लेकर बैठना पड़ता था।

भाई साहब उपदेश की कला में निपुण थे। ऐसी-ऐसी लगती बातें कहते, ऐसे-ऐसे सूक्ति बाण चलाते कि मेरे जिगर के टुकड़े टुकड़े हो जाते और हिम्मत टूट जाती।

वह जानलेवा टाइम-टेबिल, वह आँखफोड़ा पुस्तकें, किसी की याद न रहती और भाई साहब को नसीहत और फ़जीहत का अवसर मिल जाता।

निम्नलिखित मुहावरों का वाक्यों में प्रयोग कीजिए-

सिर पर नंगी लटकना, आड़े हाथों लेना, अंधे के हाथ बटेर लगना, लोहे के चने चबाना, दाँतों पसीना आना, ऐरा-गैरा नत्थू खेरा।

Answer :

सिर पर तलवार लटकना- मृत्यू का भय होना/सामने मौत दिखाई देना


प्रयोग- कश्मीर में आतंकवादियों एक दर से आम नागरिकों के सर पर तलवार लटकी रहती है|


आड़े हाथों लेना- खूब खरी-खोटी सुनाना/कठोरता से पेश आना


प्रयोग- परीक्षा में असफल होने पर लेखक को बड़े भाई ने आड़े हाथों लिया|


अंधे के हाथ बटेर लगना- अयोग्य व्यक्ति के हाथ मूल्यवान वस्तु लगना


प्रयोग- श्याम के बिलकुल भी पढ़ाई न करने के पश्चात भी वह डॉक्टरी की परीक्षा में सफल हो गया, यह ऐसा ही है मानो अंधे के हाथों बटेर लग गयी हो|


लोहे के चने चबाना- अत्यधिक कठिन कार्य


प्रयोग- डॉक्टरी की परीक्षा पास करना लोहे के चने चबाने के समान है|


दाँतों पसीना आना- बुरी तरह घबरा जाना


प्रयोग- राम ने जब एक व्यक्ति को सड़क दुर्घटना के बाद सामने से देखा तो उसे दाँतों तले पसीना आ गया|


ऐरा-गैरा नत्थू खेरा- अनजान व्यक्ति समझना


प्रयोग- राम ने वर्षों के बाद शहर की सड़क पर जब अपने कॉलेज के दोस्त को देखा तो उसने उसे ऐरा-गैर नत्थू खेरा समझकर इग्नोर कर दिया|


Rate this question :

How useful is this solution?
We strive to provide quality solutions. Please rate us to serve you better.
Try our Mini CourseMaster Important Topics in 7 DaysLearn from IITians, NITians, Doctors & Academic Experts
Dedicated counsellor for each student
24X7 Doubt Resolution
Daily Report Card
Detailed Performance Evaluation
caricature
view all courses
RELATED QUESTIONS :

क्रियाएँ मुख्यतः दो प्रकार की होती हैं-सकर्मक और अकर्मक।

सकर्मक क्रिया- वाक्य में जिस क्रिया के प्रयोग में कर्म की अपेक्षा रहती है, उसे सकर्मक क्रिया कहते हैं;


जैसे-शीला ने सेब खाया।


मोहन पानी पी रहा है।


अकर्मक क्रिया- वाक्य में जिस क्रिया के प्रयोग में कर्म की अपेक्षा नहीं होती, उसे अकर्मक क्रिया कहते हैं;


जैसे-शीला हँसती है।


बच्चा रो रहा है।


नीचे दिए वाक्यों में कौन-सी क्रिया है- सकर्मक या अकर्मक? लिखिए-


(क) उन्होने वहीं हाथ पकड़ लिया।


(ख) फिर चोरों-सा जीवन कटने लगा।


(ग) शैतान का हाल भी पढ़ा ही हौगा।


(घ) मैं यह लताड़ सुनकर आँसू बहाने लगा।


(ड-) समय की पाबंदी पर एक निबंध लिखो।


(च) मैं पीछे-पीछे दौड़ रहा था।

NCERT Hindi - स्पर्श भाग 2