Answer :

माधवदास बार-बार चिड़िया से कह रहे थे कि वो इसे अपना ही बगीचा समझे। वो अपने सूने बगीचे में चिड़िया को देख बहुत खुश थे। माधवदास चिड़िया के जरिए अपने अकेलेपन को दूर करना चाहते थे। चिड़िया से बात करके उन्हें खुशी मिलती थी| इसलिए उन्होंने चिड़िया से कहा कि वो इस बगीचे में रहे और जहां चाहे घूमे। इससे उसका भी मन लगा रहेगा लेकिन माधवदास ने चिड़िया से ये सब स्वार्थ के चलते कहा था। क्योंकि माधवदास अकेला था। उससे बात करने वाला, सुख-दुख बांटने वाला कोई नहीं था। इतनी संपदा होते हुए भी उसका मन सूना था। अत: वह चिड़िया को अपने पास रोककर खुद खुश रहने का बहाना ढूंढ रहा था। अतः माधवदास ने चिड़िया से यह बात निःस्वार्थ भाव से नहीं कही थी ऐसा कहने में उसका स्वार्थ था|


Rate this question :

How useful is this solution?
We strive to provide quality solutions. Please rate us to serve you better.
RELATED QUESTIONS :

पाठ में तैंने<spaNCERT Hindi -वसंत भाग 2

NCERT Hindi -वसंत भाग 2

NCERT Hindi -वसंत भाग 2

NCERT Hindi -वसंत भाग 2

NCERT Hindi -वसंत भाग 2

NCERT Hindi -वसंत भाग 2

NCERT Hindi -वसंत भाग 2

NCERT Hindi -वसंत भाग 2

NCERT Hindi -वसंत भाग 2

NCERT Hindi -वसंत भाग 2