Answer :

बदलू लाख की चूड़ियां बनाया और बेचा करता था, लेकिन जैसे-जैसे कांच की चूड़ियों का प्रचलन बढ़ने लगा वैसे-वैसे बदलू का काम ठप होने लगा। उसका काम दिन-प्रतिदिन चौपट होने लगा। बदलू की दशा काफी दयनीय होने लगी थी। जिन कांच की चूड़ियों से उसे चिढ़ थी वो आज बाजार में हर तरफ नजर आ रही थीं। लोग कारीगरी की जगह सुंदरता को महत्व देने लगे थे। बदलू की यह व्यथा लेखक से छिपी न रह सकी।


Rate this question :

How useful is this solution?
We strive to provide quality solutions. Please rate us to serve you better.
Try our Mini CourseMaster Important Topics in 7 DaysLearn from IITians, NITians, Doctors & Academic Experts
Dedicated counsellor for each student
24X7 Doubt Resolution
Daily Report Card
Detailed Performance Evaluation
caricature
view all courses
RELATED QUESTIONS :

NCERT Hindi -वसंत भाग 3

NCERT Hindi -वसंत भाग 3

NCERT Hindi -वसंत भाग 3

NCERT Hindi -वसंत भाग 3

NCERT Hindi -वसंत भाग 3

NCERT Hindi -वसंत भाग 3

NCERT Hindi -वसंत भाग 3

‘‘<span lang="HI"NCERT Hindi -वसंत भाग 3

NCERT Hindi -वसंत भाग 3

NCERT Hindi -वसंत भाग 3