Q. 154.0( 4 Votes )

अपने विद्यालय में हुई संगीत समारोह पर टिप्पणी करते हुए माँ को पत्र लिखिए-

अथवा

विद्यालयों में योग-शिक्षा का महत्व बताते हुए किसी समाचार-पत्र के संपादक को पत्र लिखिए।

Answer :

शिव निवास


प्रतापनगर, जयपुर


दिनांक: 19 मई 2019


प्रिय माँ,


आपका पत्र मिला| यहाँ सब कुशल मंगल है | यह पत्र मैंने आपको मेरे विद्यालय में हुई संगीत समारोह के बारे में बताने के लिए लिखा है |


हमारे स्कूल में आज संगीत प्रतियोगिता रखी गयी थी | इसकी तैयारी काफी दिनों से चल रही थी| स्कूल को बहुत अच्छे से सजाया गया था ताकि ठीक तरीके से संगीत समारोह का आयोजन हो सके| एक-एक कर सभी बच्चों ने अपनी प्रस्तुति दी और मैंने में अपनी प्रस्तुति दी| संगीत समारोह में बच्चों को मोटीवेट करने के लिए बाहर से कुछ प्रसिद्द संगीतकारों को प्रस्तुति देने के लिए बुलाया गया था| उन्होंने भी अपनी प्रस्तुति दी|


इसके अलावा कई बच्चो ने नृत्य और नाटक पेश किया| अंत में इस समारोह में बेहतरीन प्रस्तुति देने वाले बच्चों को पुरुष्कृत किया गया|


माँ आपने मुझे विद्यालय भेजने के लिए जो भी प्रयास किये और मुझे पढ़ाई के लिए प्रेरित किया उसके लिए शुक्रिया| माँ आपके सामने अपनी थोडा कठिन है लेकिन मैं कहना चाहती हूँ कि आप मेरी जिंदगी में बहुत मायने रखती हैं|


आपकी बहुत याद आती है| आप अगर थोडा वक्त निकालकर मुझसे मिलने आएंगी तो मुझे बहुत ख़ुशी मिलेगी| आपके उत्तर कि प्रतीक्षा रहेगी अपना ख्याल रखियेगा |


आपकी पुत्री


प्रिया


अथवा


सेवा में,


संपादक महोदय,


दैनिक जागरण,


सेक्टर 22 नॉएडा(उत्तर प्रदेश)


दिनांक-5 फरवरी 2019


विषय: विद्यालयों में योग-शिक्षा का महत्व बताने हेतु पत्र।


महोदय,


मैं आपके लोकप्रिय समाचार पत्र के माध्यम से विद्यालयों में योग-शिक्षा के महत्त्व के बारे में लोगों को जागरूक करना चाहती हूँ| आशा है कि आप मेरे पत्र को अपने लोकप्रिय समाचार पत्र में प्रकाशित करेंगे।


योग एक ऐसी क्रिया है जिसके माध्यम से हम अपने शरीर के साथ-साथ मन को संयत कर सकते हैं| योग के माध्यम से हमारा शरीर स्वस्थ और मन शान्त रहता है साथ ही योग के माध्यम से हम अपने तन और मन को नियंत्रित करना भी सीख सकते हैं| इसे किसी धार्मिक सिद्धांत का प्रचार नहीं करना है। संसार के सभी धर्म वालों को इसके द्वारा यह शिक्षा मिलती है कि किस प्रकार अपनी-अपनी धर्मविषयक बातों में मन को एकाग्र करने से शांति और आनंद प्राप्त होता है।


'स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मन रहता है', यह सिद्धांत सर्वमान्य है। योग शिक्षा में आहार-विहार के नियमों का पालन अत्यंत आवश्यक है। श्रीमद् भगवद्गीता में स्पष्ट ही कहा है कि जो 'युक्ताहारविहार' नहीं हैं, उन्हें जीवन में कोई सफलता नहीं मिल सकती।


मेरा सरकार से अनुरोध है कि वे राष्ट्रीय स्तर पर स्कूली एवं विश्विद्यालायी शिक्षा के पाठ्यक्रम में योग शिक्षा को आवश्यक रूप से शामिल करें|


धन्यवाद!


भवदीया


मोहन


Rate this question :

How useful is this solution?
We strive to provide quality solutions. Please rate us to serve you better.
Related Videos
Genius Quiz | All About Magnetic Field33 mins
All about Coulomb's Law64 mins
Quiz | Recalling the National Movement50 mins
Champ Quiz | All About Acids and Bases31 mins
NCERT | Nationalism in India-II53 mins
Champ Quiz | Crops of India31 mins
All About Electricity38 mins
Champ Quiz | India - The Land of Wonders34 mins
Champ Quiz | Nationalism in India38 mins
Rivers of India30 mins
Try our Mini CourseMaster Important Topics in 7 DaysLearn from IITians, NITians, Doctors & Academic Experts
Dedicated counsellor for each student
24X7 Doubt Resolution
Daily Report Card
Detailed Performance Evaluation
view all courses
RELATED QUESTIONS :

निम्नलिखित गद्यांश का शीर्षक लिखकर एक तिहाई शब्दों में सार लिखिए-

प्रत्येक देश में नागरिकों की सुऱक्षा तथा कानून का पालन करवाने कके लिए पुलिस का गठन किया जाता है। ये निर्धारित नियमों के अनुसार सरकारी संस्था द्वारा होता है। चुने हुए व्यक्तियों को कुशल प्रशिक्षकों द्वारा प्रशिक्षित किया जाता है। प्रशिक्षण के समय इन्हें शारीरिक रूप से सुदृढ़ बनाने के लिए व्यायाम व पी.टी, करवाई जाती है तथा इन्हें इनके कर्तव्यों का बोध कराया जाता है। प्रशिक्षण पूरा होने के बाद इन्हें पुलिस सेवा में नियुक्त किया जाता है। इनको समाज और जनता से जुड़े सभी काम करने होते हैं। इनका मुख्य कार्य होता है- ईमानदारी से नागरिकों के जान-माल तथा नगर की सुरक्षा करना तथा सर्वत्र शांति बनाए रखना। नगर में होने वाले उत्सवों, मेलों, सभाओं दि के समय इनकी जिम्मेदारियाँ बढ़ जाती है। सांप्रदायिक दंगों के समय तो पुलिस को कई दिनों तक लगातार ड्यूटी देनी पड़ती है। कर्फ्यू के समय आवश्यक वस्तुओं को य़थास्थान पहुँचाना भी इन्हीं की देख-रेख में होता है। इसके अतिरिक्त पुलिस के और भी कर्तव्य होते हैं; जैसे- बाढ़ के समय


तथा कहीं अग्निकांड हो जाने पर बचाव कार्य करना। इससे इनके साहस, बहादुरी और ईमानदारी की परीक्षा होत है। बहादुरी का कार्य करने वाले पुलिस कर्मचारियों को पुरस्कृत भी किया जाता है।

Hindi (Course A) - Board Papers